कविताएं

तकल्लुफ हो जो इंसाँ को तो इंसाँ ही समझता है ।
इबादत सच्ची हो तो,खुद खुदा उसको समझता है।
कोई क्या खाक समझेगा हमारे दर्द का मंजर……
जो प्यासा हो  समंदर तो वो दरिया ही समझता है।

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

loading...

Leave a Reply