ऐसा मुझे जिना सिखा दे

जताऐ  बिना माध्यम बनू

बन छायादार सबको छाया दू

तरु कुछ ऐसा सिखा दे

सच्चा परोपकार सिखा दे

ऐसा मुझे जिना सिखा दे

नदिया कुछ ऐसा सिखा दे

निरन्तर चलने वाली कला सिखा दे

छोड़ पहचान अपनी

परिवार में मिलना सिखा दे

उपकार कुछ उनके उतारू

ऐसा मुझे  जिना सिखा दे

पवन तू  एक कला सीखा दे

बिना दिखे कराना अहसास सिखा दे

तारा हु जिनकी आखो का

मेरे हिस्से की प्राण वायु उन्हें देना सिखा दे

 ऐसा मुझे  जिना सिखा दे

धीरज धरा से सिखा लू

मित्र -शत्रु समान रख दू

हे दिल दुखाने वाले हजार

दिल से माफ़ कर सकू

ऐसा मुझे  जिना सिखा दे

दिनकर कुछ ऐसा सीखा दे

अँधेरा हटाना मुझे बतलादे

किरणे बन किसी के जीवन में छाऊ

कर्तव्य अपने निभा पाऊ

ऐसा मुझे  जिना सिखा दे

प्रकृति मुझे जीवन का सार सिखा दे

 सब -कुछ समाप्त होने पर पुनः निर्माण की कला सिखा दे

तेरी तरह रहना सिखा दे

ऐसा मुझे  जिना सिखा दे

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

Tags:
loading...

Leave a Reply