तू खुद की खोज में निकल – पिंक की कविता | Tu Khud ki Khoj mein Nikal – PINK Poem

Quote 2 – तू खुद की खोज में निकल | पिंक कविता

तू खुद की खोज में निकल - पिंक की कविता | Tu Khud ki Khoj mein Nikal - PINK Poem images

हिंदी में :

जो तुझसे लिपटी बेड़ियाँ ..
समझ न इनको वस्त्र तू …
ये बेड़ियाँ पिघाल के ..
बना ले इन को शस्त्र तू …

In Einglish :

The chains that cuff you,
don’t think of them as your clothes.
melt these chains,
and make them your weapon.

In Hinglish or
Phonetic :

Jo tujh se lipTi bediyaan ..
samajh na inko vastra tu …
ye beRiyaan pighaal ke ..
bana le in ko shastra tu …

निवेदन :

अगर आपको हमारे Tu Khud ki Khoj mein Nikal | PINK Poem अच्छे लगे या आपको कोईतू खुद की खोज में निकल | पिंक कविता के Hindi Translation में कोई त्रुटि मिली तो कृपया हमे जरुर अपने comments के माध्यम से बताएं और हमे Facebook और Whatsapp Status पे Share और Like भी जरुर करे जिससे अधिक से अधिक लोगों तक हिंदी के Tu Khud ki Khoj mein Nikal | PINK Poem पहुच सके.अगर आप किसी विशेष विषय पर लेख चाहते है तो कृपया हमे ईमेल या सुझाव फॉर्म के द्वारा बताये.आप फ्री E-MAIL Subscription द्वारा हर नयी पोस्ट को अपने E-MAIL में प्राप्त कर सकते है.

इन्हें भी देखे :   सुब्ह-ए-आज़ादी (अगस्त-47) - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | The Dawn Of Freedom (August-47) - Faiz Ahmed Faiz

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

2 टिप्पणियाँ

Leave a Reply