तू खुद की खोज में निकल – पिंक की कविता | Tu Khud ki Khoj mein Nikal – PINK Poem

Quote 1 – Tu Khud ki Khoj mein Nikal | PINK Poem

तू खुद की खोज में निकल - पिंक की कविता | Tu Khud ki Khoj mein Nikal - PINK Poem images

हिंदी में :

तू खुद की खोज में निकल ..
तू किस लिए हताश है …
तू चल तेरे वजूद की ..
समय को भी तलाश है …

In Einglish :

Go, find yourself,
why are you despondent?
go, even time is
looking for your existence.

In Hinglish or
Phonetic :

Tu khud ki khoj mein nikal ..
tu kis liye hataash hai …
tu chal tere vajood ki ..
samay ko bhi talaash hai …

निवेदन :

अगर आपको हमारे Tu Khud ki Khoj mein Nikal | PINK Poem अच्छे लगे या आपको कोईतू खुद की खोज में निकल | पिंक कविता के Hindi Translation में कोई त्रुटि मिली तो कृपया हमे जरुर अपने comments के माध्यम से बताएं और हमे Facebook और Whatsapp Status पे Share और Like भी जरुर करे जिससे अधिक से अधिक लोगों तक हिंदी के Tu Khud ki Khoj mein Nikal | PINK Poem पहुच सके.अगर आप किसी विशेष विषय पर लेख चाहते है तो कृपया हमे ईमेल या सुझाव फॉर्म के द्वारा बताये.आप फ्री E-MAIL Subscription द्वारा हर नयी पोस्ट को अपने E-MAIL में प्राप्त कर सकते है.

इन्हें भी देखे :   जो बीत गई सो बात गयी - हरिवंश राय बच्चन (हिंदी कविता) | Jo beet ga_ii so baat gayee - Harivansh Rai Bachchan (Hindi Poem)

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

2 टिप्पणियाँ

Leave a Reply