हम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) – Faiz Ahmad Faiz

बोलतेचित्र 2 – हम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) – Faiz Ahmad Faiz

हम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) - Faiz Ahmad Faiz images

हिंदी में :

जब अर्ज़-ए-ख़ुदा के काबे से
सब बुत उठवाए जाएँगे
हम अहल-ए-सफ़ा मरदूद-ए-हरम
मसनद पे बिठाए जाएँगे
सब ताज उछाले जाएँगे
सब तख़्त गिराए जाएँगे
बस नाम रहेगा अल्लाह का
जो ग़ाएब भी है हाज़िर भी
जो मंज़र भी है नाज़िर भी
उट्ठेगा अनल-हक़ का नारा
जो मैं भी हूँ और तुम भी हो
और राज करेगी ख़ल्क़-ए-ख़ुदा
जो मैं भी हूँ और तुम भी हो

अर्ज़-ए-ख़ुदा = इश्वर की धरती. बुत = मूर्तियाँ, यहाँ अर्थ चापलूस. अहल-ए-सफ़ा = शरीफ लोग. मरदूद-ए-हरम = वह जिसे पवित्र स्थान पे जाने से रोक दिया गया. मंज़र = दिखने वाला. नाज़िर = देखने वाला. अनल-हक़ = मैं सत्य हूँ, मैं भगवान हूँ, सूफी मंसूर को अनल-हक़ कह देने के लिए फांसी पर लटका दिया गया था.फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

इन्हें भी देखे :   दिल-ए-मन मुसाफ़िर-ए-मन - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | My Heart, My Fellow Traveler - Faiz Ahmad Faiz

In Hinglish or
Phonetic :

Jab arza-e-khaudaa ke kaabe se
sab but uṭhavaa_e jaa_enge
ham ahal-e-saphaa maradood-e-haram
masanad pe biṭhaa_e jaa_enge
sab taaj uchhaale jaa_enge
sab takhat giraa_e jaa_enge
bas naam rahegaa allaah kaa
jo gaa_eb bhee hai haazair bhee
jo mnzar bhee hai naazir bhee
uṭṭhegaa anal-haqa kaa naaraa
jo main bhee hoon aur tum bhee ho
aur raaj karegee khalqa-e-khaudaa
jo main bhee hoon aur tum bhee ho

Arza-e-khaudaa = ishvar kee dharatee. But = moortiyaan, yahaan arth chaapaloos. Ahal-e-saphaa = shareef log. Maradood-e-haram = vah jise pavitr sthaan pe jaane se rok diyaa gayaa. Mnzar = dikhane vaalaa. Naazir = dekhane vaalaa. Anal-haqa = main saty hoon, main bhagavaan hoon, soofee mnsoor ko anal-haqa kah dene ke lie faansee par laṭakaa diyaa gayaa thaa.Faiz Ahmad Faiz

इक़बाल बानो

निवेदन :

अगर आपको हमारे हम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) – Faiz Ahmad Faiz अच्छे लगे या आपको कोईहम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) – Faiz Ahmad Faiz के Hindi Translationमें कोई त्रुटि मिली तो कृपया हमे जरुर अपने comments के माध्यम से बताएं और हमे Facebook और Whatsapp Status पे Share और Like भी जरुर करे जिससे अधिक से अधिक लोगों तक हिंदी केहम देखेंगे(व-यबक़ा-वज्ह-ओ-रब्बिक) – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Ham dekhenge(v-yabaqaa-vajh-o-rabbik) – Faiz Ahmad Faiz पहुच सके.अगर आप किसी विशेष विषय पर लेख चाहते है तो कृपया हमे ईमेल या सुझाव फॉर्म के द्वारा बताये.आप फ्री E-MAIL Subscription द्वारा हर नयी पोस्ट को अपने E-MAIL में प्राप्त कर सकते है.

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

Leave a Reply