दुआ – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua – Faiz Ahmad Faiz

BolteChitra 3 – दुआ – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua – Faiz Ahmad Faiz

दुआ - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua - Faiz Ahmad Faiz images

हिंदी में :

जिन की आँखों को रुख़-ए-सुब्ह का यारा भी नहीं
उन की रातों में कोई शम्अ मुनव्वर कर दे
जिन के क़दमों को किसी रह का सहारा भी नहीं
उन की नज़रों पे कोई राह उजागर कर दे

रुख़-ए-सुब्ह = सुबह का चहरा, यारा = साहस, ताकत. शम्अ = मोमबत्ती, रौशनी. मुनव्वर = रौशन, रौशनी देता हुआ.फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

In Hinglish or
Phonetic :

Jin kee aankhon ko rukha-e-subh kaa yaaraa bhee naheen
un kee raaton men koii shama munavvar kar de
jin ke qadamon ko kisee rah kaa sahaaraa bhee naheen
un kee nazaron pe koii raah ujaagar kar de

rukha-e-subh = subah kaa chaharaa. yaaraa = saahas, taakat. Shama = momabattee, raushanee. Munavvar = raushan, raushanee
detaa huaa.Faiz Ahmad Faiz

इक़बाल बानो की आवाज में

निवेदन :

अगर आपको हमारे दुआ – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua – Faiz Ahmad Faiz अच्छे लगे या आपको कोईदुआ – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua – Faiz Ahmad Faiz के Hindi Translationमें कोई त्रुटि मिली तो कृपया हमे जरुर अपने comments के माध्यम से बताएं और हमे Facebook और Whatsapp Status पे Share और Like भी जरुर करे जिससे अधिक से अधिक लोगों तक हिंदी केदुआ – फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | Dua – Faiz Ahmad Faiz पहुच सके.अगर आप किसी विशेष विषय पर लेख चाहते है तो कृपया हमे ईमेल या सुझाव फॉर्म के द्वारा बताये.आप फ्री E-MAIL Subscription द्वारा हर नयी पोस्ट को अपने E-MAIL में प्राप्त कर सकते है.

इन्हें भी देखे :   सुब्ह-ए-आज़ादी (अगस्त-47) - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ | The Dawn Of Freedom (August-47) - Faiz Ahmed Faiz

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

Leave a Reply