अष्टावक्र गीता‎ – वेदान्त का ग्रन्थ (प्रथम अध्याय) | ‎Ashtavakra Gita – Texts of Vedanta (First Chapter)

श्लोक 1 – अष्टावक्र गीता‎ – वेदान्त का ग्रन्थ | ‎Ashtavakra Gita – Texts of Vedanta

अष्टावक्र गीता‎ - वेदान्त का ग्रन्थ (प्रथम अध्याय) | ‎Ashtavakra Gita - Texts of Vedanta (First Chapter) images

संस्कृत में :

जनक उवाच – कथं ज्ञानमवाप्नोति, कथं मुक्तिर्भविष्यति।
वैराग्य च कथं प्राप्तमेतद ब्रूहि मम प्रभो॥१-१॥अष्टावक्र गीता

हिंदी में :

वयोवृद्ध राजा जनक, बालक अष्टावक्र से पूछते हैं – हे प्रभु, ज्ञान की प्राप्ति कैसे होती है, मुक्ति कैसे प्राप्त होती है, वैराग्य कैसे प्राप्त किया जाता है, ये सब मुझे बताएं.अष्टावक्र गीता

In English :

Old king Janak asks the young Ashtavakra – How knowledge is attained, how liberation is attained and how non-attachment is attained, please tell me all this.Ashtavakra Gita

In Hinglish or Phonetic :

Vayovriddh raajaa janak, baalak aṣṭaavakr se poochhate hain – he prabhu, gyaan kee praapti kaise hotee hai, mukti kaise praapt hotee hai, vairaagy kaise praapt kiyaa jaataa hai, ye sab mujhe bataa_en.Ashtavakra Gita

निवेदन :अगर आपको हमारे अष्टावक्र गीता‎ – वेदान्त का ग्रन्थ | ‎Ashtavakra Gita – Texts of Vedanta अच्छे लगे या आपको कोईअष्टावक्र गीता‎ – वेदान्त का ग्रन्थ | ‎Ashtavakra Gita – Texts of Vedanta के Hindi Translationमें कोई त्रुटि मिली तो कृपया हमे जरुर अपने comments के माध्यम से बताएं और हमे Facebook और Whatsapp Status पे Share और Like भी जरुर करे जिससे अधिक से अधिक लोगों तक हिंदी केअष्टावक्र गीता‎ – वेदान्त का ग्रन्थ | ‎Ashtavakra Gita – Texts of Vedanta पहुच सके.अगर आप किसी विशेष विषय पर लेख चाहते है तो कृपया हमे ईमेल या सुझाव फॉर्म के द्वारा बताये.आप फ्री E-MAIL Subscription द्वारा हर नयी पोस्ट को अपने E-MAIL में प्राप्त कर सकते है.

इन्हें भी देखे :   अभ्यास की शक्ति पर स्वामी विवेकानंद के उद्धरण/कथन/अनमोल वचन/अनमोल विचार हिंदी में | Swami Vivekananda Ke Vichar & Thoughts On Power Of Practice In Hindi

सभी नयी प्रविष्टिया इमेल में प्राप्त करे ! सब्सक्राइब करे.

Leave a Reply